उत्तर प्रदेश में फिर शुरू हुई कोरोना पाबंदी

Spread the love

 

 

 

 

संपूर्ण विश्व समेत हमारे देश में भी कोरोना कहर बन चुका है। आपको बता दें कि कोरोनावायरस बीते साल पहले तबाही मचा चुका है। कोरोना से अभी सही से उबरे नहीं थे कि कोरोना वायरस का नया रूप फिर से देखने को मिलने लगा। नए वायरस का संक्रमण फिर से अपना रूप ले रहा है। जिसको देखते हुए सरकार एक बार फिर सतर्क हो गई है। देश के कई प्रदेशों में कोरोना के नए मामले सामने आने के कारण उत्तर प्रदेश सरकार सतर्क हो गई है। और उसने कुछ नए फैसले लिए हैं।

 

मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग भूले लोग

 

कोरोना वायरस अभी सही से रुका भी नहीं था कि लोग अपनी मर्यादाएं लांग कर एक कदम आगे निकल गए। जो शायद फिर से खतरा बन कर दिखाई दे रहा है। बाजारों और सड़कों पर देखने से लगता है कि लोगों को महामारी का बिल्कुल भी डर नहीं रहा लोग मास्क लगाने से लेकर उचित दूरी का पालन भी बिल्कुल भूल चुके हैं। शायद है यही ढिलाई कहीं फिर से मुसीबत बन कर वापस न लौट आए।

 

 

त्योहारों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने जारी कीजिए दिशा निर्देश

 

 

कोरोना संक्रमण के मामलों में मामूली बढ़ोतरी को देख एवं आने वाले त्योहारों को मद्देनजर रखते हुए। उत्तर प्रदेश की सरकार ने कुछ कड़े कदम उठाए हैं जोकि इस वायरस की चेन को तोड़ने में सक्षम होंगे। उत्तर प्रदेश सरकार ने निर्देश जारी करते हुए कहा है कि बाहरी प्रदेशों में नए संक्रमण के मामलों में मामूली बढ़ोतरी को देखकर प्रदेश सरकार ने यह निर्णय लिया है कि त्योहारों पर दूसरे प्रदेश से उत्तर प्रदेश आने वाले व्यक्तियों की फिर से कोरोना संक्रमण की जांच की जाए। एवं कुछ दिशा निर्देशों का पालन किया जाए। बाहरी प्रदेशों से उत्तर प्रदेश में हवाई मार्ग से आने वाले सभी यात्रियों की एयरपोर्ट पर ही एंटीजन जांच कराई जाए एवं लक्षण प्रतीत होने पर आर॰टी॰ पी॰सी॰आर का नमूना लिया जाए। तो वही रेल मार्ग से अन्य प्रदेशों से आने वाले यात्रियों की भी एंटीजन की जांच कराई जाए। तो वही लंबी दूरी से जिस रेलवे स्टेशन पर अत्यधिक रेल गाड़ियां रूकती हो उस पर 24 घंटे कोविड जांच की सेवा होनी चाहिए। और तो और सरकार ने फ्रंटलाइन वर्करों को भी एक्टिव रहने के निर्देश दिए हैं कि क्षेत्र में सतर्क रहें अगर कोई बाहरी प्रदेश से वापस आ रहा है जिसमें कोरोना के केसों में मामूली सी वृद्धि हुई है। वहां से वापस आए व्यक्ति की जांच अवश्य कराई जानी चाहिए।

 

तो वहीं सरकार द्वारा भीड़भाड़ वाले क्षेत्र एवं स्कूलों में संक्रमण की जांच कराने के लिए कलैंडर तैयार कर लिया गया है। जिलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी को मॉनिटरिंग करने की अभी निर्देश दे दिए गए हैं।

जोनल हेड राजन साहू

Shares
Total Page Visits: 258 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

error: Content is protected !!