फॉर्च्यून हॉस्पिटल के डॉक्टर ने किया अपने पेशे को कलंकित

Spread the love
आपको लेकर चलते हैं एक ऐसी ख़बर की तरफ़ जिसे देखकर आप चौंक जायेंगे ज़रा सोचिये अगर आप बीमार हो जायें तो डाक्टर के पास ही जायेंगे लेकिन अगर डाक्टर आपके इलाज के नाम पर सरासर धोखा करने लग जाये तो आप किस दरवाज़े पर जायेंगे डाक्टर्स के पेशे में विश्वास के नाम पर हुए विश्वासघात की यह कहानी उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर की है जहां एक डाक्टर ने इस ईमानदार पेशे को कलंकित कर दिया
कानपुर शहर के काकादेव इलाक़े में रहने वाली नसीमा बानो को काफ़ी दिनो से सांस लेने में काफ़ी परेशानी होती थी धीरे धीरे यह तकलीफ़ बढ़ती गई और साथ ही असहनीय दर्द ने नसीमा का जीना हराम कर दिया आर्थिक हालत बहोत अच्छी न होने की वजह से नसीमा शुरु में तो घरेलू इलाज करती रही लेकिन जब परेशानी बहुत बढ़ गई तो वह डाक्टर्स की सलाह लेने पर मजबूर हो गई नसीमा का सिटी स्कैन और,पीएनएस टेस्ट हुआ तो पता चला कि उसे साइनस की समस्या है और यह परेशानी इतनी बढ़ गई है कि निजात पाने के लिये तुरन्त ऑप्रेशन की सलाह दी गई
साइनस की समस्या से जूझ रही नसीमा ऑप्रेशन कराने को तैयार हो गई तो उसके पति ने कानपुर के ही शारदा नगर फार्चयून अस्पताल में उसे दस दिसंबर को भर्ती कर दिया जहां डाक्टर मधुकर वशिष्ठ की देख रेख में नसीमा का इलाज होने लगा बस यहीं से नसीमा की परेशानी ख़त्म होने के बजाये बढ़ने लगी फार्च्यून अस्पताल में नसीमा का ऑपरेशन करके उसे बीती 14 दिसम्बर 2020 को अस्पताल से डिसचार्ज कर दिया गया नसीमा और उसका परिवार खुश था कि अब उसे तकलीफ से निजात मिल चुकी है लेकिन नसीमा की ख़ुशी ज़्यादा दिन तक नहीं टिक सकी एक दिन अचानक फिर से दर्द हुआ तो डॉक्टर से संपर्क किया फिर क्या था फार्च्यून का स्टॉफ नसीमा की बीमारी की जलेबी बनाने लगा पहले तो उसे बताया गया कि ऑपरेशन के बाद ऐसा होता है दो चार दिन में आराम का आश्वासन भी मिला लेकिन जब हालत नहीं सुधरी तो धरती पर भगवान् का रूप कहे जाने वाले डॉक्टर कन्नी काटने लगे इधर नसीमा समझ नहीं पा रही थी की आपरेशन के नाम पर फार्च्यून अस्पताल को लगभग 85000 रुपया देकर वो ठगी जा चुकी
नसीमा को दिन के उजाले में सफेदपोश लूट ले गए फार्च्यून अस्पताल से मदद न मिलने पर जब नसीमा ने दुसरे डॉक्टर्स से सम्पर्क कर दोबारा टेस्ट कराया तो खुल कर आई विश्वास घात की एक ऐसी दास्ताँ जिसे सुनकर ज़ोर का झटका ज़ोर से ही लगेगा नसीमा के टेस्ट में पता चला की उसका आपरेशन किया ही नहीं गया बल्कि उसे बेवकूफ बना कर हज़ारो रुपयों का चूना लगा दिया गया है
खुलेआम,दिनदहाड़े,सरेआम लूट की इस वारदात में क्राइम सीन में आरोपी कोई मामूली आदमी नहीं बल्कि भगवान् का रूप माना जाने वाला डॉक्टर है फार्च्यून अस्पताल की इस करतूत की शिकायत लेकर पीड़िता जिला अधिकारी ,सी एम् ओ,के अलावा सीएम् के यहाँ अपनी शिकायत दर्ज करा चुकी है
फार्च्यून अस्पताल पर नसीमा के आरोप गम्भीर तब हो जाते हैं जब इनके मजबूत सुबूत मौजूद हैं अस्पताल में दाखिल होने के बाद ऑपेरशन रिपोर्ट,डिस्चार्ज स्लिप और पैथोलॉजी की रिपोर्ट चीख चीख कर नसीमा के साथ हुए धोखे की गवाही दे रहे हैं लेकिन आपरेशन करने वाले डाक्टर मधुकर को इससे कोई सरोकार नहीं है उनका कहना है की नसीमा के नाक का आपरेशन किया गया था और कुछ दिनों बाद वो दुबारा जाँच करवाने नहीं आयी इसलिए उसकी नाक में फंगस हो गया होगा
रिपोर्ट मयंक बाजपेई
Shares
Total Page Visits: 243 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

error: Content is protected !!